Royal Fun Break 4 U

Hindi Shayari, Jokes, Suvichar, Quotes And Much More.

Tag: बेस्ट हिंदी स्टोरीज

मजेदार चुटकुले हिंदी में – सुखी जीवन के 10 सूत्र:

1. जब भी दरवाज़े पर घंटी बजती है तो घर का कोई मर्द या कोई बच्चा दरवाज़ा खोलने जाता है और औरत दुपट्टा लेने। 2. किसी भी रिश्तेदार को एयरपोर्ट और रेलवे स्टेशन पर पूरे परिवार का जाना एक परंपरा बन गयी है। 3. हम बाहर जितना मर्ज़ी खा लें कभी बीमार नहीं हो सकते। 4. हर हिंदुस्तानी महिला के दो प्रमुख काम हैं – घर को संभालना और दूसरों की शादियाँ पक्की करवाना। 5. हर हिंदुस्तानी लड़की के तीन तरह के भाई होते हैं – असल भाई, चचेरा भाई और राखी भाई। 6. विदाई के समय दुल्हन का रोना बहुत अनिवार्य है। क्योंकि इसके बिना शादी की फिल्म अच्छी नहीं लगेगी। 7. हम सब पर दिवाली के दिनों में सफाई का भूत सवार हो जाता है ताकि जो लोग हमारे घर आयेंगे हम उन्हें दिखा सकें कि हम कितने सफाई पसंद हैं। 8. हम कितने भी बड़े हो जाएँ फिर भी हमारे माता-पिता को हमारी हर खबर होनी चाहिए, कहाँ गए थे, कहाँ से आ रहे हो, क्या कर रहे हो… वगैरह-वगैरह। 9. जब भी हिंदुस्तानी माता-पिता कोई टिकट खरीदते हैं तो उनका बच्चा 12 साल से कम हो जाता है। उनके लिए बच्चे की आधी टिकट लेना बहुत बड़ी जीत है। 10. अगर हम अपने माता-पिता से दूर किसी दूसरे शहर में रहते हैं तो हमारे लिए यह बहुत जरूरी है कि हम हर रोज़ अपनी माँ को फ़ोन करें नहीं तो वो हमारे दोस्तों को फ़ोन करके हमारा हाल-चाल पूछेगी। 11. दुनिया में कोई भी हमें मोल-भाव करने में नहीं पछाड़ सकता। चलो भाई न तुम्हारा न हमारा इतने पैसे ठीक हैं। 12. हम चाहे कितने भी बड़े कान्वेंट स्कूल में पढ़ लें, ज़रुरत पड़ने पर गालियां हम अपनी मात्र भाषा में ही देते हैं। 13. जब कोई मेहमान घर से जाने लगता है तो दरवाज़े में खड़े होकर ही अचानक हमें सारी बातें याद आ जाती हैं जो हम घर के अंदर करना भूल जाते हैं। 14. जब हम रिमोट को इधर-उधर ठोक कर चला सकते हैं तो बैटरी क्यों बदली जाये।

मस्त हिंदी जोक्स – बस काम तमाम हो गया।

इंजीनियर!
एक पादरी, वकील और इंजीनियर को विद्रोह के कारण मौत की सजा मिली। जब सजा देने का वक़्त आया तो अपराधियों को आखिरी ख्वाहिश की प्रथा बताई तो उन्हें गर्दन ऊपर और नीचे रखने के विकल्प मिले।

पादरी ने ऊपर देखना स्वीकारा ताकि भगवान को देख सके और जैसे ही बटन दबाया गया तो आरी, गर्दन से सिर्फ दो इंच ऊपर रुक गई। अधिकारियों ने इसे ईश्वर की मर्जी समझ के उसे छोड़ दिया।

वकील ने भी ऊपर देखा और जब आरी रुकी तो वह बोला कानूनन एक व्यक्ति को दो बार सजा नहीं दी जा सकती और वह भी छूट गया।

इंजीनियर ने भी ऊपर ही देखने का फैंसला किया। जब बटन दबाया जा रहा था तो वो चिल्लाया, “एक मिनट रुको, अगर आप उस हरे और लाल तार को आपस में बदल देंगे तो काम हो जायेगा।”

बस काम तमाम हो गया।

हिंदी के लतीफे – पति – पत्नी और झगड़ा!

पति: डार्लिंग कल सुबह क्या तुम मेरे साथ योग क्लास में चलना चाहोगी?

पत्नी: तुम कहना क्या चाहते हो, मैं क्या मोटी हो गयी हूँ?

पति: अरे ऐसी बात नहीं है, नहीं जाना चाहती तो मत चलो।

पत्नी: तुम्हारा मतलब मैं आलसी हूँ।

पति: तुम ऐसे गुस्सा क्यों कर रही हो?

पत्नी: अब तुम्हें लग रहा है कि मैं हमेशा झगड़ती रहती हूँ।

पति: अरे मैंने ऐसा कब बोला?

पत्नी: अच्छा, मतलब अब मैं झूठ बोल रही हूँ।

पति: अच्छा बाबा, मैं भी नहीं जाता।

पत्नी: अब समझी मैं, दरअसल तुम खुद मुझे ले जाना नहीं चाहते थे और अब बहाने बना रहे हो। तुम्हारा तो हमेशा से यही काम है। सारी गलती मेरी ही है।

पत्नी बस लगातार पति को कोसती रही और पति बेचारा चुपचाप बैठा सारी रात यह सोचता रहा कि आखिर उसने ऐसा क्या पूछ लिया जो उसकी यह हालत कर दी गयी।

मस्त हिंदी चुटकुले – डॉक्टर की होशियारी!

मरीज: डॉक्टर साहब, जल्दी कुछ करो, मेरे पैरों पर एक औरत ने गाड़ी चढा दी।

डॉक्टर ने अच्छे से चेक किया और पाया कि मामूली चोट है पर मरीज घबराया हुआ है।

डॉक्टर: ओ हो, भाई आपरेशन करना पडेगा, बहुत खर्चा आयेगा… तैयार हो?

मरीज: कुछ भी करो जल्दी करो। कमीनी ने मरा सोच कर उठाया भी नहीं।

इतने में ही डॉक्टर की पत्नी का फोन आया।

डॉक्टर: हैलो

पत्नी: हैलो छोड़ो, ये बताओ मैं क्या करूं? मुझसे कार चलाते में एक आदमी मर गया जय हिंद चौक पर।

डॉक्टर: आदमी ने कपड़े कैसे पहन रखे थे?

पत्नी: हरी टी शर्ट और काली पैंट।

डॉक्टर: ओ हो, तो उसे तुमने मारा है। पुलिस खूनी को तलाश करती हुई घूम रही है।

पत्नी: तो अब क्या करूं?

डॉक्टर: करना क्या है, 4-6 महीने के लिए मायके भाग जा जल्दी।

पत्नी: ठीक है जा रही हूँ।

मरीज: डॉक्टर साहब करो ना कुछ।

डॉक्टर: भाई कुछ नहीं हुआ है तेरे को, ये ले 500 रूपये और चार बियर ले आ, दोनो पियेंगे… और हाँ, यह हरी टी शर्ट निकाल के जा।

मस्त हिंदी जोक्स – विदेशी भाषा का चक्कर!

एक दिन संता और बंता दोनों टैक्सी स्टैंड पर बैठे बातें कर रहे थे कि तभी एक विदेशी उनके पास पहुँचा और उनसे अंग्रेजी भाषा में कुछ पूछा। संता – बंता दोनों बेवकूफों की तरह उस विदेशी के चेहरे को देखते रहे।

विदेशी समझ गया कि दोनों को अंग्रेजी नहीं आती। अब उसने वही प्रश्न उनसे स्पेन की भाषा स्पेनिश में पूछा।

दोनों फिर बेवकूफों की तरह विदेशी का चेहरा देखते रहे।

तीसरी बार विदेशी ने वही प्रश्न उनसे रूस की भाषा रशियन में पूछा।

दोनों का वही हाल रहा।

चौथी बार विदेशी ने वही प्रश्न उनसे जर्मनी की भाषा जर्मन में पूछा।

दोनों फिर वैसे ही उसका चेहरा ताकते रहे।

आखिर तंग आकर विदेशी चला गया। उसके जाने के बाद बंता, संता से बोला, “यार संता, हम लोगों को भी अपनी भाषा के अलावा कोई दूसरी भाषा सीखनी चाहिए। हमारे काम आएगी।”

संता ने एक जोर का झापड़ बंता को लगाया और बोला, “साले, उसको चार चार आती थी, उसके कोई काम आई?”

मजेदार जोक्स हिंदी में – पत्नी का पत्र!

गांव में एक स्त्री थी । उसके पति आई.टी.आई मे कार्यरत थे। वह आपने पति को पत्र लिखना चाहती थी, पर अल्पशिक्षित होने के कारण उसे यह पता नहीं था कि पूर्णविराम (Full Stop) कहां लगेगा ।

इसीलिये उसका जहां मन करता था वहीं पूर्णविराम लगा देती थी ।

तो एक बार उसने अपने पति को कुछ इस प्रकार चिठ्ठी लिखी:

मेरे प्यारे जीवनसाथी मेरा प्रणाम आपके चरणो मे।

आप ने अभी तक चिट्टी नहीं लिखी मेरी सहेली को। नौकरी मिल गयी है हमारी गाय को। बछडा दिया है दादाजी ने। शराब की लत लगाली है मैने। तुमको बहुत खत लिखे पर तुम नहीं आये कुत्ते के बच्चे। भेड़िया खा गया दो महीने का राशन। छुट्टी पर आते समय ले आना एक खूबसूरत औरत। मेरी सहेली बन गई है। और इस समय टीवी पर गाना गा रही है हमारी बकरी। बेच दी गयी है तुम्हारी मां। तुमको बहुत याद कर रही है एक पडोसन। हमें बहुत तंग करती है।

तुम्हारी चंदा।

हिंदी के लतीफे – ज्यादा समझदारी भी अच्छी नहीं!

एक कंपनी का मालिक अपनी एक फैक्टरी में विजिट करने गया।

वहाँ उसने देखा कि सारे कर्मचारी तो काम कर रहे थे लेकिन एक युवक एक कोने में आराम से खड़ा मोबाइल पर मैसेज पढ़ रहा था और मुस्कुरा रहा था।

मालिक को यह देखकर और भी हैरत हुई कि उसके आने के बावजूद भी युवक अपने काम पर लगने की बजाये ढीठता पूर्ण तरीके से वैसे ही खड़ा रहा।

मालिक को गुस्सा आ गया। उसने युवक को बुलाया और पूछा, “तुम्हें हर महीने कितनी तनख्वाह मिलती है?”

युवक: “6000 रुपये सर!”

मालिक ने जेब से 18000 रुपये निकाले और युवक को देते हुए बोला, “ये पकड़ो तुम्हारी 3 महीने की एडवांस तनख्वाह और दफा हो जाओ यहाँ से, तुम्हारे जैसे कामचोरों के लिए मेरी कंपनी में कोई जगह नहीं है।”

युवक ने शांतिपूर्वक रुपये लिए और मुस्कुराता हुआ चला गया।

अब मालिक ने वहाँ काम कर रहे लोगों से पूछा, “अब कोई मुझे बताएगा कि ये आदमी कौन था और क्या काम करता था?”

बड़ी मुश्किल से अपनी हँसी दबाते हुए एक कर्मचारी ने बताया, “सर, वो तो पिज्जा डिलीवरी करने वाला लड़का था। दरअसल आज सुपरवाइजर साहब अपना लंच बॉक्स लाना भूल गए थे।”

Hindi Ki Funny Story – Pakistani Aur Bhartiya

दुबई जाने वाली फ्लाइट में तीन सीटों की पंक्ति में
दो पाकिस्तानी और एक भारतीय बैठे थे,,
.
.
.
भारतीय कोने वाली सीट पर
था और अपने जूते उतार कर
आराम से सीट पर ही चौकड़ी मार
कर बैठ गया,,
तभी पहला पाकिस्तानी बोला,”
भाई मुझे तो बहुत प्यास लगी है,
कोक पियूंगा”
भारतीय कोने में बैठा था तो कहा
“भाई साहब, आप बैठो, मैं लेकर
आता हूँ”
और वो एयर होस्टेज से
कोक लेने नंगे पावँ ही चला गया,
दोनों पाकिस्तानी मुस्कुराए और
एक ने भारतीय के जूते में थूक दिया,,
भारतीय थोड़ी ही देर में कोक लेकर
आया और फिर चौकड़ी मार कर
बैठ गया, अब थोड़ी देर के बाद..
दूसरा पाकिस्तानी भी बोला,
“मुझे भी प्यास लगी है, मैं भी कोक
पियूँगा”
भारतीय फिर उठा और थोड़ी देर
के बाद कोक लेकर आ गया,
इस बीच दूसरे पाकिस्तानी ने भी
उनके जूते में थूक दिया,,

दुबई पहुँचने पर भारतीय
ने अपने जूते जैसे ही पहने, उसको सारी
बात समझ में आ गयी, यह देख
दोनों पाकिस्तानी भारतीय की हसीं उड़ाने के
अंदाज़ में मुस्कुराने लगे,,
भारतीय बहुत ही आहत स्वर में बोला,
” आखिर कब तक यह दुश्मनी चलेगी,
आखिर कब तक हम भुगतते
रहेंगे,
आखिर कब तक यह मंजर
चलेगा,
आखिर कब तक…

तुम जूतों में थूकते और

हम कोक में मूतते रहेंगे…?

Short Funny Story In Hindi Font – Pita Aur Putra

एक बार एक पिता अपने पुत्र के कमरे के बहार से निकला तो देखा, कमरा एकदम साफ़। नयी चादर बिछी हुई और उसके उपर रखा एक पत्र।
इतना साफ़ कमरा देखकर पिता अचम्भित हो उठा। उसने वो पत्र खोला। उसमे लिखा था।
प्रिये पिता जी,
मैं घर छोड़कर जा रहा हूँ। मुझे माफ़ करना। आपको मैं बता देना चाहता हूँ मैं दिव्या(वर्मा अंकल की बेटी) से प्यार करता था लेकिन दोनों परिवार की दुश्मनी को देखते हुए मुझे लगा आप सब हमारे रिश्ते के लिए तैयार नहीं होंगे।

दिव्या आपको या मम्मी को पसंद नहीं क्यूंकि वो शराब पीती है। लेकिन आप सब नहीं जानते शराब पीने वाला कभी झुठ नहीं बोलता। मैं सुबह में जल्दी इसलिए निकला क्यूंकि मुझे उसकी जमानत करनी थी वो रात कुछ दोस्तों के साथ चरस पीती पकड़ी गयी थी और सबसे पहले उसने मुझे फ़ोन किया। क्या ये प्यार नहीं? वो आपको और मम्मी को गालियाँ देती रहती है उसको सास ससुर पसंद नहीं इसलिए हम सबके लिए ये ही अच्छा है हम अलग रहे।

रही बात मेरी नौकरी नहीं है तो उसका भी इंतज़ाम दिव्या ने कर लिया है उसने मुझे पॉकेट मारना सिखा दिया। उपर से उसके दोस्तों का अपना ड्रग्स सप्लाई का बिज़नस भी है। वो भी सिख ही लूँगा।
अपनी लाइफ तो सेट है पापा। बस आपका आशीर्वाद चाहिए।
आपका प्यारा बेटा

सुमित।
पेज के अंत में लिखा था PTO
पिता ने अपने कापते हाथो से पत्र पलता तो उसपर लिखा था।
“चिंता न करो सामने वालो के यहाँ मैच देख रहा हूँ। बस ये बताना था कि मेरे रिजल्ट से भी बुरा कुछ हो सकता है। इसलिए थोड़े में संतोष करो। Side table में रिजल्ट पड़ा है। Sign कर देना कॉलेज में जमा करना है।

Hindi Mein Funny Kahaniyan – Hindi Bolne Ka Shok Hua

मुझे भी आज
हिंदी बोलने का शौक हुआ,

घर से निकला और
एक ऑटो वाले से पूछा,

“त्री चक्रीय चालक
पूरे सुभाष नगर के परिभ्रमण में
कितनी मुद्रायें व्यय होंगी ?”

ऑटो वाले ने कहा,?
“अबे हिंदी में बोल रे..”

मैंने कहा,
“श्रीमान
मै हिंदी में ही
वार्तालाप कर रहा हूँ।”

ऑटो वाले ने कहा,
“मोदी जी
पागल करके ही मानेंगे ।
चलो बैठो
कहाँ चलोगे ?”

मैंने कहा,
“परिसदन चलो”

ऑटो वाला फिर
चकराया !?
“अब ये
परिसदन क्या है ?

बगल
वाले श्रीमान ने कहा,
“अरे
सर्किट हाउस जाएगा”

ऑटो वाले ने
सर खुजाया बोला,
“बैठिये प्रभु”

रास्ते में मैंने पूछा,
“इस नगर में
कितने छवि गृह हैं ??”

ऑटो वाले ने कहा,
“छवि गृह मतलब ??”

मैंने कहा,
“चलचित्र मंदिर”

उसने कहा,
“यहाँ बहुत मंदिर हैं …
राम मंदिर,
हनुमान मंदिर,
जगन्नाथ मंदिर,
शिव मंदिर”

मैंने कहा,
“भाई
में तो चलचित्र मंदिर की
बात कर रहा हूँ
जिसमें
नायक तथा नायिका
प्रेमालाप करते हैं …”

ऑटो वाला
फिर चकराया,

“ये चलचित्र मंदिर
क्या होता है ??”

यही सोचते सोचते
उसने सामने वाली गाडी में
टक्कर मार दी

ऑटो का
अगला चक्का
टेढ़ा हो गया और हवा निकल गई।

मैंने कहा,
“त्री चक्रीय चालक
तुम्हारा अग्र चक्र तो
वक्र हो गया …”

ऑटो वाले ने
मुझे घूर कर देखा
और कहा,
“उतर जल्दी उतर !

आगे पंचर की दुकान थी
हम ने दुकान वाले से कहा….

हे त्रिचक्र वाहिनी सुधारक महोदय
कृप्या अपने वायु ठूंसक यंत्र से मेरे त्रिचक्र वाहिनी के द्वितीय चक्र में वायु ठूंस दीजिये धन्यबाद

दूकानदार बोला कमीने सुबह से बोनी नहीं हुई और तू शलोक सुना रहा है।

Royal Fun Break 4 U © 2016